Skip to main content

Book - scripts EVOL - love teda hai writer by Pawan singh

Script on EVOL – love teda hai
दरवाजा खुलता है ...

मनीश अपने सोफे पर बैठ कर TV पर क्रिकेट का मैच देख रहा था तभी दरवाजे से उसका दोस्त अंदर आता है ।

तू यंहा मैच देख रहा है ?
तो क्या करूँ तेरे ऊपर नाचूँ साले
मेरा मतलब है कि तेरा सोनिया का क्या ड्रामा है रोज का ? बात क्यो नही कर रहा है तू उससे?
ड्रामा साले ड्रामे से याद आया कि तेरी वाली केसी है ?
Sixer ..... crowd noise

बात मत पलट तू पहले बता क्या सीन है?
सीन तो सुन ....

 भाई तुझे पता लड़कियों का लड़की होना ही एक बहुत बड़ा सीन है इनके दिमाग की तू क्या भगवान भी नही समझ सकते ...तभी तो कहते है कि इन्हें तो भगवान भी नही समझ सकता
इन लड़कियों को भगवान ने धरती पर भी इसलिए भेजा है कि वो चाहते है कि तुम अगर समझ जाओ तो मुझे भी बता देना।
Sixer .....crowd noise

लड़कियों को अगर सॉरी बोलो तो कहएगी की सॉरी मत बोलो न बेबी हम दोनों तो gf bf है सॉरी अच्छा नही लगता है
लेकिन अगले दिन ही तुमने कोई भूल करदी तो बस चिल्ला कर कहएगी की तूने तो अभी तक सॉरी भी नही बोला मुझे i hate you

Sixer ...noise crowd

लड़का बेचारा पूरे हफ्ते पैसे इक्कठे करता है जिससे वह अपनी gf से मिले तो अच्छे से उसे खिला पिला सके लेकिन एक तो इनसे जब भी मिलने जाओ ससुरी दो लड़कियों को और ले आएगी मुझे समझ नही आता कि इन बॉडीगार्ड की ज़रूरत क्या होती है साला कोई  privacy  ही नही बचती ऊपर से इतना खाती है साला सारा बजट खराब हो जाता है
ऊपर से उनकी gf से बात ना करो तो दिक्कत
कहएगी तो इतना bored  क्यो है
अगर तूने उसकी सेहली से बात करली तो कहएगी अच्छा तुझे बड़ा मजा आ रहा है मेरी फ्रेंड्स से बात करके
Sixer crowd  Nosie

तुझे पता है ये वेलेंटाइन डे वीक 7 से क्यो चालू होते है । भाई ये लड़को के खिलाफ साजिश रखी है किसीने
क्योकि उसको पता था कि 7 को ही लड़को की सैलरी आना चालू होती है।
हर चीज़ पर रोक टोक लगाती है और हर बक्त फ़ोन कर देती है
अरे एक ही काम है लड़को का जो वो बेचारे किसी के बिना रोक टोक के करना चाहते है और वो है हगना लेकिन ससुरी उस समय भी कॉल कर देती है एक दिन तो मान ही नही रही थी कि में हगने बैठा हु तो क्या? मैने फ़ोन को पीछे घुमाया ओर आवाज सुना दी अब जाकर फ़ोन आना बंद हुआ है।

Sixer crowd noise

हर वक्त बोलती रहएगी की में मोटी होती जा रही हु इसलिये में डाइट पर हु
लेकिन फिर भी जब भी मिलने आउ उसे चॉकलेट जरूर चाहिए तो साले ये डाइट का ड्रामा क्यो करती है।

मतलब भले ही अपने बाप के साथ भंडारे में बैठकर खा ले लेकिन bf के साथ तो मैकडोनाल्ड में ही जाएगी ।

 वैसे कहएगी की तुम मुझे टाइम नही देते हो ओर जब एक दिन msg करने लगो तो कहएगी की तू तो बड़ा नल्ला है । में लड़की  हु मुझे घर मे काम होता है नल्ले । में नल्ला साली तू नल्ली तेरा बाप नल्ला

साला इस बार तो वेलेंटाइन डे और महाशिवरात्रि एक साथ है लेकिन में महाशिवरात्रि बनाऊंगा क्योंकि
Gf तो उसकी बने जो कर्म करे चांडाल का
लेकिन gf भी उसका क्या करे जो भक्त है महाकाल का ।

Door open ...
आवाज आती है ।। अच्छा तो तुम मेरे बारे में ये सोचते हो ... चारो तरफ चुप्पी
तभी TV में विराट कोहली आउट होते हूए।

Scripts writer .....©
Author Pawan Singh
Book – EVOL – Love teda hai

Comments

Popular posts from this blog

शरलॉक होम्स और ऑथर कॉनन डॉयल

शरलॉक होम्स, यह नाम आपने कहीं न कहीं जरूर सुना होगा और यदि नहीं भी सुना है तो भी कोई बात नहीं है दोस्तों, क्योंकि अब समय आ गया है जब हम मि. होम्स के कारनामे सुनेंगे, अ..अ........ मेरा मतलब है कि पढ़ेंगे। शरलॉक होम्स एक ऐसे काल्पनिक किरदार का नाम है जो अपनी अभूतपूर्व तर्क शक्ति, अद्भुत निरीक्षण (observation) क्षमता, साहस और सूझ-बूझ के लिए जाना जाता है। होम्स ने अनेक ऐसी आपराधिक गुत्थियाँ सुलझाईं है जो पुलिस के लिए एक अबूझ पहेली मात्र बन कर रह गई थीं। उनकी विशिष्ट कार्यशैली लोगों को चमत्कृत करके रख देती थी, ठीक एक जादूगर की तरह। इस पात्र की लोकप्रियता का अंदाजा आप केवल इसी बात से लगा सकते हैं की लोग इसे एक काल्पनिक पात्र न मानकर एक जीवित व्यक्ति समझ बैठे थे, और इस कारण उसके नाम के अनेकों पत्र डाक विभाग को मिलने लगे थे जिनमें लोग अपनी समस्याएँ लिखते थे। होम्स के इर्द-गिर्द बुनी गई कहानियों पर कई टेलीविज़न सीरीज और कुछ फिल्म्स भी बन चुकी है जो दर्शकों द्वारा बहुत पसंद की गईं।
अब तक छप्पन लघु कथाएँ और चार उपन्यास शरलॉक होम्स और उनके डॉ. मित्र जॉन एच. वाटसन पर लिखी जा चुकी है। चार को छोड़कर अ…

Who is writer by Author Pawan Sikarwar

लेखक कौन हो सकता है या लेखक कौन बन सकता है? ऐसे सवाल अक्सर हर लेखक और पाठक के मन मे जरूर उभरता है।
लेकिन इससे पहले यह जानना शायद ज्यादा जरूरी है कि लेखक कौन है? और इसका जबाब है
-“लेखक एक शार्पित इन्सान है”
इस एक पंक्ति में शायद आपके सभी सवालों के जबाब मिल गए होंगे। लेखक एक ऐसा इंसान है जो शार्पित है क्योंकि वह हमेशा कुछ नया लिखने के लिए बेचैन रहता है और उसकी यह बेचैनी ही उसे लेखन से जोड़ती है।
अक्सर मुझसे मेरे पाठक पूछते है कि क्या लेखन के लिए साहित्यिक जीवन होना जरूरी है? और मेरा हमेशा इसपर एक ही जबाब होता है कि – “नही क्योंकि कई ऐसे महान लेखक हुए है जिनके पहले से कोई साहित्यिक जीवन से जुड़ाव नही था। ना ही उनके पिता और ना ही उनके दादा साहित्य से जुड़े हुए थे लेकिन फिर ही वह एक सफल लेखक है और यह मेरे साथ भी हुआ ना ही मेरे परिवार किसी साहित्य जीवन से जुड़ा हुआ था और ना ही मै।
लेखक हर दौर से गुजरता है चांहे फिर वो गरीबी हो, या समाज दुवारा बहिष्कार हो उसका या उसकी आलोचना। लेकिन इसी बीच एक बड़ा तबका एक लेखक को प्रेम भी देता है और सहयोग भी।
समाज और लेखक का रिश्ता ज्यादा अच्छा नही होता है जैसा …

कविता - वाह जनाब क्या शायरी थी wrote by Author Pawan Sikarwar

कविता – वाह जनाब क्या शायरी थी ।
 लेखक - पवन सिंह सिकरवार

ये इश्क़ नही था उसका
ये तो उसकी अख़्तियारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
क्या शायरी थी .....२

मोहब्बत का पर्दा
अब बेपर्दा हो गया
बिन आग के लगी
वो चिंगारी थी
अब कैसे करूँ बयाँ अपना दर्द
मोहब्बत सी लगने वाली
ये कोई उम्रदराज बीमारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
 क्या शायरी थी....३

कृष्ण रंग की मृग थी वो
या वो राधा नाम सी प्यारी थी
शायरी सी सच्ची थी वो
और कविताओं सी संस्कारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
क्या शायरी थी.....४

Write By ©
Author Pawan Singh Sikarwar