Skip to main content

Interview with Author shikha shrivastav

  INDIAN PAPER INK Publishing Interview
 
Name –  शिखा श्रीवास्तव
Book Name -  खाली फ्रेम 
Hobbies and Interest -  किताबे पढ़ना और लिखना 

Biographical Info मेरा नाम शिखा श्रीवास्तव है। मैं हाजीपुर, बिहार की रहने वाली हूँ। मैंने समाजशास्त्र(प्रतिष्ठा) विषय में स्नातक किया है।

Favorite Quoteलेखन और पठन मेरे जीवन के अभिन्न हिस्से है।


            Today I’m very lucky to be interviewing Sikho foundation Authors


Que 1 :- Hello Sir/Ma’am, thank you for agreeing to this interview. Tell us a little about yourself and your background?

Ans :- मेरा नाम शिखा श्रीवास्तव है। मैं हाजीपुर, बिहार की रहने वाली हूँ। मैंने समाजशास्त्र(प्रतिष्ठा) विषय में स्नातक किया है। लेखन और पठन मेरे जीवन के अभिन्न हिस्से है।


Que 2 :- Your every readers and me also wanted to know, Do you write every single day? 

Ans :-    नहीं, मैं हर दिन नहीं लिखती। लिखना मेरे लिए विचारों के गहरे सागर में डूबकर मोती ढूंढ लाने के बराबर है जिसके लिए मुझे वक्त चाहिए होता है।
                                                                                 

Que 3 :- How did you begin writing? Did you intend to become an author, or do you have a specific reason or reasons for writing each book?

Ans :-  एक वक्त ऐसा आया था जीवन में जब मैं भावनात्मक रूप से बिल्कुल अकेली पड़ गयी थी। उसी दौर में मेरे हाथों ने कलम को थाम लिया और लेखन के जरिये अपने मन के भावों को शब्दों में ढ़ालकर मुझे गहन सुकून की अनुभूति हुई। बस तब से ही मेरे लेखन की शुरुआत हुई। मेरी कलम ने मेरे अंदर की घुटन से मुझे मुक्त किया और ये दौर अब भी जारी है।
   
Que 4 :- What period of your life do you find you write about most often? (child, teenager, young adult)

Ans :- निःसंदेह वयस्क जीवन में मैंने ज्यादा लिखा है।

Que 5 :- What was an early experience where you learned that language had power?

Ans :- मैंने "बेटी का घर" शीर्षक से एक लघुकथा लिखी थी, जिसे पढ़कर बहुत लोग मेरे उस विचार से सहमत हुए और भविष्य में उसे अपनाने की बात कही। जिसे जानकर मुझे पहली बार अहसास हुआ कि मेरी कलम में भी ताकत है और मुझे इस ताकत को सही दिशा देनी चाहिए ताकि हमारे समाज के सही निर्माण में कुछ योगदान मेरा भी हो।

Que 6 :- If you could tell your younger writing self anything, what would it be?

Ans :-  अपने साथी लेखकों से मेरी यही विनम्र विनती है कि अपनी कलम की ताकत को पहचानिए, इससे कुछ सकारात्मक लिखिए, कुछ ऐसा रचिये जो मनोरंजन के साथ-साथ हमारे समाज और देश के लिए हितकारी हो, जो लोगों को सही-गलत का फर्क समझने में मदद करे।

Que 7 :- Tell us how much you connected with your upcoming Novel?

Ans :- अभी मैंने नया उपन्यास लिखना शुरू नहीं किया है। पर एक विषय है जिस पर लिखने की कोशिश कर रही हूँ और ये मेरे दिल के बहुत करीब है।


Que 8 :- Tell us about your upcoming Novel?

Ans :- फिलहाल बता पाना सम्भव नहीं है। लेकिन ये जो भी होगा हमारे आस-पास के समाज और उसमें व्याप्त विडंबनाओं पर ही आधारित होगा।

Que 9 :- Which actor/actress would you like to see playing the lead character from your most recent Novel?

Ans :- सिर्फ और सिर्फ कंगना रनौत

Que 10 :- What was your hardest scene to write?

Ans :- कभी-कभी ऐसा होता है कि अपने विचारों को सही तरीके से शब्दों में ढ़ालने के लिए शब्दों का उचित संयोजन नहीं मिल पाता। तब थोड़ी मुश्किल का अहसास होता है।


Que 11 :- What’s the best way to market your books?

Ans :- आज के दौर में सोशल मीडिया से बेहतर कुछ भी नहीं है।

Que 12 :- Any last thoughts for our readers?

Ans :- मैं बस अपने पाठकों से यही अनुरोध करती हूं कि सकारात्मक संदेश देती रचनाओं को अपने आस-पास के लोगों तक पहुँचाइए और जो बात अमल करने लायक लगे उस पर अमल करके समाज और देश-निर्माण के सहभागी बनिये। नकारात्मक बातों के प्रचार-प्रसार से खुद को और समाज को बचाइए।


Thank you very much for taking the time out of your busy schedule to take part in this interview.





Comments

Popular posts from this blog

शरलॉक होम्स और ऑथर कॉनन डॉयल

शरलॉक होम्स, यह नाम आपने कहीं न कहीं जरूर सुना होगा और यदि नहीं भी सुना है तो भी कोई बात नहीं है दोस्तों, क्योंकि अब समय आ गया है जब हम मि. होम्स के कारनामे सुनेंगे, अ..अ........ मेरा मतलब है कि पढ़ेंगे। शरलॉक होम्स एक ऐसे काल्पनिक किरदार का नाम है जो अपनी अभूतपूर्व तर्क शक्ति, अद्भुत निरीक्षण (observation) क्षमता, साहस और सूझ-बूझ के लिए जाना जाता है। होम्स ने अनेक ऐसी आपराधिक गुत्थियाँ सुलझाईं है जो पुलिस के लिए एक अबूझ पहेली मात्र बन कर रह गई थीं। उनकी विशिष्ट कार्यशैली लोगों को चमत्कृत करके रख देती थी, ठीक एक जादूगर की तरह। इस पात्र की लोकप्रियता का अंदाजा आप केवल इसी बात से लगा सकते हैं की लोग इसे एक काल्पनिक पात्र न मानकर एक जीवित व्यक्ति समझ बैठे थे, और इस कारण उसके नाम के अनेकों पत्र डाक विभाग को मिलने लगे थे जिनमें लोग अपनी समस्याएँ लिखते थे। होम्स के इर्द-गिर्द बुनी गई कहानियों पर कई टेलीविज़न सीरीज और कुछ फिल्म्स भी बन चुकी है जो दर्शकों द्वारा बहुत पसंद की गईं।
अब तक छप्पन लघु कथाएँ और चार उपन्यास शरलॉक होम्स और उनके डॉ. मित्र जॉन एच. वाटसन पर लिखी जा चुकी है। चार को छोड़कर अ…

Who is writer by Author Pawan Sikarwar

लेखक कौन हो सकता है या लेखक कौन बन सकता है? ऐसे सवाल अक्सर हर लेखक और पाठक के मन मे जरूर उभरता है।
लेकिन इससे पहले यह जानना शायद ज्यादा जरूरी है कि लेखक कौन है? और इसका जबाब है
-“लेखक एक शार्पित इन्सान है”
इस एक पंक्ति में शायद आपके सभी सवालों के जबाब मिल गए होंगे। लेखक एक ऐसा इंसान है जो शार्पित है क्योंकि वह हमेशा कुछ नया लिखने के लिए बेचैन रहता है और उसकी यह बेचैनी ही उसे लेखन से जोड़ती है।
अक्सर मुझसे मेरे पाठक पूछते है कि क्या लेखन के लिए साहित्यिक जीवन होना जरूरी है? और मेरा हमेशा इसपर एक ही जबाब होता है कि – “नही क्योंकि कई ऐसे महान लेखक हुए है जिनके पहले से कोई साहित्यिक जीवन से जुड़ाव नही था। ना ही उनके पिता और ना ही उनके दादा साहित्य से जुड़े हुए थे लेकिन फिर ही वह एक सफल लेखक है और यह मेरे साथ भी हुआ ना ही मेरे परिवार किसी साहित्य जीवन से जुड़ा हुआ था और ना ही मै।
लेखक हर दौर से गुजरता है चांहे फिर वो गरीबी हो, या समाज दुवारा बहिष्कार हो उसका या उसकी आलोचना। लेकिन इसी बीच एक बड़ा तबका एक लेखक को प्रेम भी देता है और सहयोग भी।
समाज और लेखक का रिश्ता ज्यादा अच्छा नही होता है जैसा …

कविता - वाह जनाब क्या शायरी थी wrote by Author Pawan Sikarwar

कविता – वाह जनाब क्या शायरी थी ।
 लेखक - पवन सिंह सिकरवार

ये इश्क़ नही था उसका
ये तो उसकी अख़्तियारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
क्या शायरी थी .....२

मोहब्बत का पर्दा
अब बेपर्दा हो गया
बिन आग के लगी
वो चिंगारी थी
अब कैसे करूँ बयाँ अपना दर्द
मोहब्बत सी लगने वाली
ये कोई उम्रदराज बीमारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
 क्या शायरी थी....३

कृष्ण रंग की मृग थी वो
या वो राधा नाम सी प्यारी थी
शायरी सी सच्ची थी वो
और कविताओं सी संस्कारी थी
कागज पर लिखे मैने उल्टे सीधे शब्द
लोगो ने कहा वाह जनाब
क्या शायरी थी.....४

Write By ©
Author Pawan Singh Sikarwar